आध्यात्मिक योग और उसकी अनुभूतियाँ


हर परिस्थिति मैं स्थिर रहनेकी क्षमता धारण करनेके लिए:
सकारात्मक सोच: जो इन्सान अपनेको अपने जीवनमें आनेवाली हर परिस्थिति मैं निपट्नेके लिए सक्षम समझता है| वो न सिर्फ उसका प्रतिकार ही करता है किन्तु वो अपनी श्रेष्ठ ताकत लगाके अपना श्रेष्ठतम है वो भी देता है| वो एसी पडकारजंक परिस्थितियोंसे हमेंशा एक कदम आगे ही होता है| वो उसको अपनी प्रगतिका जरिया बना लेता है| अपितु आगे बढ़नेका वो माध्यम बनालेता है|
अनुभूति: मैं अपनेआपको जीवनमें आने वाली हर परिस्थितियों को निपटने के लिए अपनी आतंरिक शक्तियों से तैयार महसूस करता हूँ| इसी कारणसे मैं स्थिर रहता हूँ| मैं परिस्थितियोंसे गभरानेवाला नहीं हूँ बल्कि उसका डटकर सामना करनेवाला हूँ| इसी लिए मैं अपनेको आनेवाली इसी हरा परिस्थितियों से हमेंशा एक कदम आगे रखकर चलता हूँ| इसीलिए मैं हर वक़्त ज्यातर अंदरूनी शक्तियों को प्राप्त करता रहता हूँ|
आत्माकी खुराक:
ध्यानयोग से विश्व परिवर्तन : जो इसका नियमित अभ्यास करता है;वो सारे विश्वके लिए एक आध्यात्मिक दीवादांडी रूप होता है, अपने परमपिता परमात्मा जो दिव्यशक्तियों ओउर गुनोका अखूट भण्डार है उनसे प्राप्त करके उसे सारे विश्व की आत्माओं और विश्व मैं फैलानेका माध्यम बन जाता है| अपने विचारों और शक्तिशाली किरणें फैलानेके लिए|शारीरिक शक्तियां समय और फुर्सद्से सीमित रहती है और सीमित लोगों ताका ही पहुंचाई जा सकती है| आत्मिक शक्तियां और गुणों का प्रदान तो दुनियाके किसी भी कोनेमें बसे हुए ताका लाभान्वित करा सकते हैं| किसीभी व्यक्ति पर्यावारानके पांचो तत्वोंको परिवर्तित करनेको सक्षम होता है| धीरेधीरे ये सोच और ध्यानयोगसे अपने अन्दर ये अनुभव करके सारे जगमें तरंगके रूपमें फैलाते हुए…
मैं एक सचेतन आत्मा हूँ…I become aware of myself as a soul……..
भृकुटी के बीचमें चमकती ज्योतिबिंदु स्वरूप हूँ| a point of light sitting on my throne between the eyebrows……..
मैं अपनेको लारंग्से प्रकाशित धाममें रहनेवाली हूँ….I picture my destination, a land of soft golden-red light……..
ये विचार और सोचके पंखोसे उड़कर वहां पहुँची हूँ…On the wings of thought I fly there……..
एस भौतिक जगको बहुतदूर पीछे छोड़ आई हूँ… leaving the physical world behind……..
मुजमैंसे बहुत ही शक्तिशाली तरंगे प्रकाशकी और शक्तियोंकी चारों तरफ किला रही है… Strong currents of spiritual light and might are emanating from me in all directions……..
मैं अपने मनभावन परमधामसे नीचेकी ओर देख रही हूँ….I watch from my sweet home the world below……..
जो मेरे करोड़ों आत्मिक बंधुओं की सितारों के रूपमे झगमगा रही हैं…It is full of millions of tiny star like points of awareness, my brother souls……..
मैं अपनेको बहुतही शक्तिशाली हस्ती के आशीर्वादसे जोकि भुत ही प्रकाशित परम ज्योत स्वरूप है वो मुजको प्रदान कर रही है…I picture a meeting with the Supreme Being, a blissfully radiant (full of light) being overflowing with energy……..
लाल सोनेरी प्रकाशकी किरणें जोकि सम्पूर्ण पवित्र, प्रेम और शान्ति से भरपूर है जो मुझे ईस मनुष्य सृष्टि के बीजरूपसे मील रही है …Golden rays of complete purity, love and peace are flowing from the seed of the human world tree into me……..
एंड मेरे माध्यमसे सारी सृष्टि मैं फ़ैल रही है| And through me, onto the whole world…….
मैं बीज स्वरूप सारी सृष्टि के लिए प्रकाश और शक्तिकी दीवादांडी रूप हूँ…. I am a seed of world benefit, the Lighthouse and Mighthouse………
ये हकारात्मक आत्मिक शक्तियोंका स्त्रोत सारे जगकी आत्माओं के दू:खदर्द और चिंताओको धो रहा है….This flow of positive spiritual energy washes away the tensions and sorrows of all the souls……..
मैं ये अनुभव कर रही हूँ की सारे जगके वातावरण को आत्मिक खुशीयाँ..प्यार और शान्ति से भरा रहा है…. I feel these rays charging the atmosphere of the world with happiness, love and spiritual calm……..
प्रकृतिके पंचतत्व भी पवित्र बनके उसके मूल स्वरूपको प्राप्त कर रहें है.. The elements are being purified and returning to their original pure state……..

इस अनुभव को सम्पूर्ण शान्ति मैं थोड़ी मिनीटो तक जारी रखिये..Remain in this experience for a few minutes. This exercise should be practiced in silence.
(To be continued tomorrow …. )

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s